बागेश्वर ब्रेकिंग : ड्रीम-11 के 57 लाख के विजेता हिमांशु साइबर ठगी का शिकार होने से बाल- बाल बचे, बागेश्वर पुलिस ने लौटवाई बैंक खाते में होल्ड पड़ी 40 लाख की रकम

0
Ad

सुष्मिता थापा

Ad

बागेश्वर। आपको याद होगा कि 14 अप्रैल को मगरूहपुरी बागेश्वर निवासी हिमांशु नामक युवक ने ड्रीम-11 काॅनटेस्ट में 57 लाख रप्ये की भारी भरकम रकम जीत कर क्षेत्र के युवाओं में कोरोना के बीच रोमांच का संचार कर दिया था। अब उससे आगे की खबर। दरअसल हिमांशु के बैंक खाते में अगली सुबह टैक्स काटकर ड्रीम —11 की ओर से 40लाख 25 हजार रुपये डाल भी दिये गए। लेकिन इसी बीच किसी ठग की नजर हिमांशु की सफलता पर पड़ गई। उसने हिमांशु से बातचीत करके उसके अकाउंट के बारे में जानकारी हासिल की और उस रकम पर अपना दावा जताते हुए रकम के ट्रांजेक्शन पर रोक लगवा दी। अब हिमांशु लखपति होते हुए भी बैंक से अपनी धनराशि निकालने की स्थिति में नहीं था। हिमांशु के साथ हुई इस ठगी से वह स्तब्ध था। अगर प्रयास न करता तो बैंक ठग के खते में रूपये ट्रांसफर कर सकता था। ऐसे में हिमांशु ने बागेश्वर पुलिस से मदद मांगी और बागेश्वर पुलिस उसके लिए भगवान साबित हुई।
प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक अमित श्रीवास्तव ने त्वरित जनपद में गठित साइबर सैल को प्रकरण में तत्काल आवश्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया। जिस पर पुलिस उपाधीक्षक नोडल अधिकारी /साईबर क्राइम सैल शिवराज सिंह राणा के पर्यवेक्षण में साईबर क्राइम सैल द्वारा शीघ्र ही तकनीकी जानकारी प्राप्त की गई तथा सम्बन्धित बैंक एवं ड्रीम -11 के नोडल अधिकारी से पत्राचार कर प्रकरण उपरोक्त मे अज्ञात द्वारा होल्ड लगाये गये पैसों 40,25000/-रूपये को आवेदक हिमांशु कुमार उपरोक्त के खाते में वापस कराया गया। अपनी धनराशि को पुनः प्राप्त करने पर आवेदक द्वारा साईबर सेल बागेश्वर द्वारा की गई त्वरित कार्यवाही की प्रशंसा करते हुए जनपद पुलिस एवं उत्तराखण्ड पुलिस का आभार व्यक्त किया गया । उक्त प्रकरण में आवेदक के खाते में पैंसे वापस कराने में साइबर सेल प्रभारी इंसपेक्टर राजेन्द्र सिंह रावत एवं साइबर सेल के कांस्टेबल चन्दन कोहली की अहम भूमिका रही।

Ad
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड…महामारीः कोरोना के 27 नए संक्रमित, एक की मौत, नैनीताल टाॅप पर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here