महाकुंभ 2021 : मेलाधिकारी रावत और एसएसपी खंडूड़ी ने टीम के साथ महाकुंभ सकुशल संपन्न कराने को की मां गंगा की पूजा

0
Ad

हरिद्वार । मेलाधिकारी दीपक रावत एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, महाकुम्भ मेला जन्मेजय खण्डूरी ने बुधवार की सुबह मेष संक्रान्ति कुम्भ शाही स्नान 14 अप्रैल को हरकी पैड़ी ब्रह्मकुण्ड पहुंच कर महाकुम्भ के सकुशल सम्पन्न होने के लिये माॅ गंगा व अन्य देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना की।

Ad


मेलाधिकारी दीपक रावत सुबह सात बजे से पहले ही मेला नियंत्रण भवन (सीसीआर)अपने कार्यालय में पहुंच चुके थे। कार्यालय पहुंचकर उन्होंने अधिकारियों को महाकुम्भ के सम्बन्ध में कई दिशा-निर्देश दिये। उसके पश्चात वे शाही स्नान रूट का निरीक्षण करते हुये हरकी पैड़ी ब्रह्मकुण्ड पहुंचे, जहां उन्होंने महाकुम्भ के सकुशल सम्पन्न होने के लिये माॅ गंगा व अन्य देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना की। पूजा-अर्चना के समय श्रीगंगा महासभा के अध्यक्ष प्रदीप झा, अपर मेलाधिकारी डाॅ. ललित नारायण मिश्र, हरवीर सिंह, सेक्टर मजिस्ट्रेट योगेश मेहरा, गंगा सभा के अन्य पदाधिकारी सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड…महामारीः कोरोना के 27 नए संक्रमित, एक की मौत, नैनीताल टाॅप पर

देश व प्रदेश की खबरें अपने मोबाइल पर पाने के लिए हमारे व्हाट्सअप ग्रुप को ज्वाइन करें

https://chat.whatsapp.com/FRtyqY0WRlHKZxyPPM4AkI


पूजा-अर्चना करने के पश्चात मेलाधिकारी दीपक रावत हरकी पैड़ी स्थित पुल नम्बर-1 पर पहुंचे, जहां पर उन्होंने आठ बजकर 56 मिनट पर शाही स्नान के लिये आ रहे सर्वप्रथम निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी श्री कैलाशानन्द गिरी जी महाराज, अखाड़े के सचिव और मनसादेवी ट्रस्ट के सचिव श्रीमहंन्त रवीन्द्र पुरी जी महाराज, आनन्द अखाड़े के आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी श्री बालकानन्द गिरिजी महाराज सहित अन्य सन्तों का स्वागत पुष्प वर्षा व पुष्प माला पहनाकर किया। इसके पश्चात सन्तों के हरकीपैड़ी ब्रहृमकुण्ड पहुंचने पर पूजा-अर्चना एवं विधि-विधान से शाही स्नान का शुभारम्भ हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड…स्कूल में पेपर देने के बाद से लापता हैं दो किशोर, पुलिस ने लगाई 4 टीमें- एसडीआरएफ, यहां देखे गए थे अंतिम बार


स्वागत के समय वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महाकुम्भ मेला जनमेजय खण्डूरी, अपर मेलाधिकारी डाॅ0 ललित नारायण मिश्र, हरवीर सिंह सहित अन्य अधिकारीगण भी मौजूद थे।
मेलाधिकारी हरकीपैड़ी से ही जहां पर जैसी आवश्यकता हो रही थी, अधिकारियों को निर्देश भी देते जा रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉  जसपुर…यौन उत्पीड़न के आरोप में जसपुर कोतवाल निलंबित
Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here