बागेश्वर न्यूज़ : गांवों में बनी निगरानी समिति के सदस्य गांव से बाहर

0
Ad

बागेश्वर। बागेश्वर जिले में कोरोना की रफ्तार तेजी से बढ़ती हुई नजर आ रही है, कोरोना अब गांव-गांव में अपने पैर पसार चूका है। ऐसे में जहां गांवों में बनी निगरानी समिति के सदस्य की जिम्मेदारी निभा रहे सदस्य गांव ही नहीं जनपद से बाहर हैं।

Ad

आपको बता दे कि दूर दराज ग्रामीणों इलाकों में लोगों को स्वास्थ्य की जानकारी समय पर नहीं मिल पा रही है तथा मरीज के अज्ञानता के चलते हालत बिगड़ने पर ही कोविड चिकित्सालय में आ रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड...डबल ध ...माल: सरकारी डाक्टर का प्राइवेट अल्ट्रासाउंड क्लीनिक सील

सीएमओ कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार जनपद में अधिकांश मौत का कारण समय पर मरीज का चिकित्सालय न पहुंचना है। स्वास्थ्य विभाग को भी इसकी जानकारी ग्राम समिति के माध्यम से समय पर नहीं मिल पा रही है जिससे वे टेस नहीं हो पा रहे हैं। इधर कई गांवों में निगरानी समिति में सदस्यों का जिम्मा संभाले सदस्य व कर्मचारी गांव से ही नहीं जनपद से भी गायब हैं।

यह भी पढ़ें 👉  सुप्रभात…आज का पंचांग, मां कुष्मांडा की कथा, आज का इतिहास और आचार्य पंकज पैन्यूली से जानें आज का राशिफल

जिस कारण ग्रामीण क्षेत्रों में बाहर से आए प्रवासियों व बीमार व्यक्तियों का पता नहीं चल पा रहा है। कई गांव के ग्रामीणों को अब तक यह पता नहीं चला है कि उनके गांव में निगरानी समिति में कौन-कौन हैं तथा उनके द्वारा किया जा रहा कार्य क्या है। बता दें कि ग्राम प्रधान संगठन ने पूर्व में निगरानी समिति में कार्य करने से मना किया है। इसके बाद भी शेष सदस्य अधिकांश गांवों में नियमानुसार निगरानी नहीं कर रहे हैं। विभिन्न संगठनों ने इस पर चिंता व्यक्त करते हुए निगरानी समिति के कुछ सदस्यों के फोन की सर्विलांस से पिछले कुछ दिनों की लोकेशन चेक करवाने की
मांग जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से की है ताकि लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा सके।

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here