हो गया फैसला : अब अंत्येष्टि में जाने वाले लोगों को पहले बनाना होगा ई पास, 18 से 25 तक बढ़ा कोविड कर्फ्यू, बैंक 10 से दो बजे तक खुलेंगे

0
Ad

देहरादून। प्रदेश में अब कोविड कर्फ्यू को 25 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल के अनुसार कुछ नए प्रतिबंधों के साथ कर्फ्यू को आगे बढाया गया है। कुछ नए नियमों में कर्फ्यू के दौरान परचून की दुकानें अब 21 मई को सुबह सात से 10 बजे तक खोले जाने की ढील दी गई है। इसके अलावा नई गाइडलाइन में विवाह समारोह में शामिल होने के लिए आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की गई है। प्रदेश में तमाम बैंक अब सुबह 10 से दो बजे तक खुलेंगे। इसके अलावा अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए ई-पास अनिवार्य किया गया है।
आज राजधानी में हुई उच्च स्तरीय बैठक में कोविड कर्फ़्यू को बढ़ाने के निर्णय की जानकारी शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने मीडिरूा को दी है। उन्होंने बताया कि पिछले कोविड कर्फ़्यू के दौरान सामने आई व्यवहारिक कठिनाईयों को इस बार दूर किया गया है। आगामी 18 मई से प्रातः 6 बजे से 25 मई प्रातः 6 बजे तब कोविड कर्फ्यू का दूसरा चरण लागू रहेगा।
उन्होंने बताया कि शादी समारोह में अधिकतम 20 लोगों अनुमति होगी और 72 घन्टे पूर्व RTPCR टेस्ट अनिवार्य होगा। मरीज के तीमारदारों को आने जाने के लिये डॉक्टर की पर्ची ही कोविड कर्फ्यू में मान्य होगी। अंत्येष्टि में शामिल लोगों को अनुमन्य 20 लोगो को कर्फ्यू पास अनिवार्य रूप से दिया जाएगा। हेल्थ इमरजेंसी और परिजन मृत्यु के मामले में e pass आवेदन पर दिया जाएगा।
उन्होंने बताया कि तमाम बैकों के अनुरोध पर बैंकों के खुलने की अवधि 10 बजे से 2 बजे दिन रखा गया है। यही व्यवस्था राज्य कर्मचारी वित्त संस्थान पर भी लागू होगी। उन्होंने बताया कि हरिद्वार अस्थि विसर्जन 4 व्यक्तिही जा सकेंगे लेकिन उनके वाहन की आठ सीट होनी चाहिए। यानी कुल मिलाकर अस्थि विसर्जन के लिए पचास प्रतिशत वाहन क्षमता के साथ लोगों को जाने की इजाजत होगी।
सरकारी राशन की दुकान के साथ बेकरी को भी प्रातः 7 बजे से 10 बजे तक खोलने की अनुमति होगी। 21 मई को परचून ,राशन दुकानें 7 से 10 बजे दिन में खुलेगी। उत्तर प्रदेश की की सीमा से उत्तराखंड में आने जाने के लिए पास की अनिवार्यता तो नही होगी परन्तु पोर्टल पर आवेदन करना होगा।
उद्योगों के लिये मजजूरों की सुरक्षा और आवागमन के लिये अनिवार्यता के स्थान पर यथा सम्भव कर दिया गया है।

Ad
Ad
यह भी पढ़ें 👉  रानीपोखरी…जोशीमठ से मां के इलाज को हिमालयन हास्पीटल आया बेटा दवाई लेने गया था दो महीने बाद भी नहीं लौटा, गुमशुदगी दर्ज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here