उत्तराखंड… बाबा केदार के द्वार : भगवान केदारनाथ को ब्रह्मकमल चढ़ाने और जलाभिषेक को लेकर उत्साहित हैं भोले के भक्त

0
Ad

रुद्रप्रयाग। सावन के पहले सोमवार को बाबा केदार के चरणों में ब्रह्मकमल चढ़ाने और जलाभिषेक करने को लेकर भक्तों में अपार उत्साह है। सावन के धार्मिक महत्व के लिए हर साल की तरह इस बार भी बीकेटीसी के कर्मचारी 13 हजार फीट की ऊंचाई से ब्रह्मकमल तोड़कर लाए हैं जिन्हें आज बाबा को अर्पित किया जाएगा।

ऐसा माना जाता है कि सावन के पवित्र महीने में भगवान शिव को जलाभिषेक, बेलपत्र और ब्रह्मकमल अति प्रिय लगते हैं। इसीलिए दूर-दूर से बाबा के भक्त सावन में केदारधाम पहुंचते हैं। इधर, हर साल की तरह बदरी-केदार मंदिर समिति ने सावन में केदारनाथ मंदिर में भगवान केदारनाथ के लिए ब्रह्मकमल चढ़ाना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी…ब्रेकिंग: अब आटो चालक ने दर्ज कराया ह्दयेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने वाले मनोज गोस्वामी के खिलाफ केस

उत्तराखंड…जंगल में अ—मंगल: शराब पीने के दौरान तीन हजार रूपये को लेकर हुआ विवाद, दो ने मार कर जंगल में गाढ़ दिया तीसरा दोस्त, दोनों हत्यारोपी गिरफ्तार

यह भी पढ़ें 👉  सेक्स रैकेट… कॉल गर्ल की फोटो भेजकर बताता था रेट, डिमांड पर कराता था उपलब्ध, आरोपी गिरफ्तार

सोमवार को मंदिर के प्रधान पुजारी टी गंगाधर लिंग पूजा अर्चना के साथ बाबा केदार को ब्रह्मकमल का पुष्प अर्पित करेंगे जबकि इसके बाद अन्य बीकेटीसी कर्मी, तीर्थपुरोहित, भक्त आदि बाबा का जलाभिषेक कर पुण्य अर्जित करेंगे। रविवार को बीकेटीसी की टीम केदारनाथ मंदिर से करीब 6 किमी दूर जाकर ब्रह्मकमल के पवित्र फूलों को टोकरी में लाई।

यह भी पढ़ें 👉  कुमाऊं…सरेआम: दुकान पर खड़े युवक को बाइक सवारों ने गोली से उड़ाया, पुलिस हत्यारों की तलाश में जुटी

सितारगंज…हादसा : खटीमा में नदी किनारे शौच को गया युवक कामन नदी में बहा, तलाश जारी

बीकेटीसी के प्रशासनिक अधिकारी युद्धवीर सिंह पुष्पवाण ने बताया सावन में बाबा केदार को ब्रह्मकमल चढ़ाने का विशेष महत्व है इसलिए हर साल की तरह बीकेटीसी की टीम ऊंचाई वाले स्थानों से टोकरी में दिव्य पुष्प लाई है जिसे बाबा केदार को चढ़ाया जाएगा।

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here