ब्रेकिंग न्यूज : महाकुंभ के दौरान गंगा में कोरोना वायरस धोकर घर लौटने वाले लोग अब उनकी ही प्रदेश सरकारों के लिए हो गए ‘अछूत’

0
Ad

तेजपाल नेगी

Ad

नई दिल्लीसीएम तीरथ सिंह रावत की ओर से ‘गंगा स्नान से कोरोना का वायरस मर जाता है’ वाले तर्क के साथ भले उत्तराखंड सरकार ने भव्य और विशाल महाकुंभ के आयोजन की अपनी जिद के आगे किसी की नहीं चलने दी हो, लेकिन अब देशभर में इसके इफैक्ट्स सामने आने लगे हैं। कोरोना के वायरस को कथित रूप से गंगा में धोकर अपने अपने घरों को लौटने वाले लोगों के साथ अब प्रदेश सरकारें अछूतों जैसा व्यवहार कर रही हैं। इनमें खुद भाजपा की सरकारें भी शामिल हैं।
संक्रमण से बचाव के लिए दिल्ली के साथ गुजरात, ओडिशा, मध्य प्रदेश और कर्नाटक ने भी नए नियम जारी किए हैं।
सबसे पहले बात गुजरात की कुंभ स्नान कर गुजरात लौटने वालों को बिना RT-PCR टेस्ट के एंट्री पर बैन लगा दिया गया है। श्रद्धालु की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव पाए जाने पर ही शहर में जाने दिया जाएगा। पॉजिटिव होने पर 14 दिनों के लिए आइसोलेशन में रहना होगा।
यही नहीं गुजरात राज्य के सभी जिलों के जिलाधिकारियों को कुंभ मेला से लौटने वालों पर नजर रखने का निर्देश दिया गया है। साथ ही RT-PCR के बिना अपने घर लौटने से रोकने के लिए नाकाबंदी लागू करने के लिए कहा गया है।
अब राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की बात, हरिद्वार कुंभ मेले से लौट रहे दिल्ली में रहने वाले लोगों को RT-PCR टेस्ट के साथ 14 दिन अपने घर पर क्वारेंटाइन रहना होगा। इसके साथ ही 4 अप्रैल से अब तक कुंभ होकर आए हैं, उन्हें www.delhi.gov.in पर 24 घंटे के अंदर अपना नाम, पता, संपर्क सूत्र, ID, दिल्ली से जाने और आने की पूरी डिटेल देनी होगी।
दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने अपने आदेश में कहा कि, अब ये जरूरी हो गया है कि दिल्ली के जो नागरिक कुंभ से आए हैं या फिर जो जाने वाले हैं, उन्हें टेस्ट, ट्रेस और क्वारेंटाइन किया जाए। जिसने जानकारी छिपाई उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।
मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने भी सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि वे कुंभ मेले से लौटने वाले लोगों को 7 दिन होम क्वारेंटाइन करें। सरकार ने कहा कि सभी लोगों को अपने आने के बारे में जिलाधिकारियों को जानकारी देनी होगी।
ओडिशा सरकार ने भी कुंभ से लौटने वाले श्रद्धालुओं के लिए RT-PCR टेस्ट के साथ 14 दिन का होम क्वारेंटाइन अनिवार्य कर दिया है। लोग घर या अस्थायी चिकित्सा शिविर (TMC) में 14 दिन का क्वारेंटाइन पीरियड पूरा कर सकते हैं। इसके अलावा कुंभ में शामिल होने वालों का डाटा कलेक्टरों और नगर निगम आयुक्तों के साथ साझा किया गया है।
आदेश में कहा गया है कि ऐसे सभी लोगों को व्यक्तिगत रूप से ट्रैक किया जाए और उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी की जाए।
कर्नाटक में भी कुंभ मेला से लौट रहे सभी लोगों के लिए कोविड-19 टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री के सुधाकर ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि हरिद्वार कुंभ मेले में भाग लेने वाले तीर्थयात्रियों को एक सप्ताह तक अपने घर पर क्वारेंटाइन रहना होगा। साथ ही RT-PCR टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा।

Ad
यह भी पढ़ें 👉  सुप्रभात… आज का पंचांग,आज का इतिहास, मां महागौरी की महिमा और आचार्य पंकज पैन्यूली से जानें अपना आज का राशिफल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here