बागेश्वर न्यूज : पुलिस ने केमू स्टेशन पर बच्चों के साथ फंसी महिला को अपने खर्चे पर पहुंचाया कपकोट के लीमा गांव, बच्चों ने कहा— थैंक्यू मामा

0
सांकेतिक फोटो
Ad

बागेश्वर। कोतवाल बागेश्वर के निर्देशन में चीता पुलिस टीम नगर क्षेत्रान्तर्गत शान्ति व्यवस्था ड्यूटी व आम जनमानस को कोविड संक्रमण के प्रति जागरूक कर रही थी, वहीं टीम द्वारा नगर क्षेत्र में मिलने वाले जरूरतमंद व्यक्तियों की सहायता हेतु हर सम्भव प्रयास भी किये जा रहे थे। इस दौरान शाम के समय जब चीता पुलिस टीम नगर क्षेत्रान्तर्गत भ्रमण करते हुए केमू बस स्टेशन के पास पहुंची तो उन्होंने देखा कि एक महिला अपने तीन छोटे बच्चों के साथ बस स्टेशन के पास अकेले खड़ी हैं। शाम के समय महिला व बच्चों के अकेले बस स्टेशन के पास खडे़ होने पर चीता पुलिस टीम उनके पास गई तथा उनसे वार्ता करते हुए वहां पर रूकने का कारण पूछा गया। इस पर महिला द्वारा अपना नाम बिमला देवी निवासी- ग्राम- लीमा, कपकोट बताते हुए कहा कि वो अपने बच्चों के साथ देहरादून से आ रही हैं तथा उन्हें कपकोट अपने घर लीमा जाना है, परन्तु हमें काफी समय से कोई भी वाहन नहीं मिल पा रहा है एवं वाहन के लिए पर्याप्त पैंसे भी नहीं हैं।

Ad

इस पर चीता पुलिस ने महिला व उसके बच्चों को सुरक्षा की दृष्टि से महिला हैल्प डेस्क (कोतवाली) में बैठाया गया तथा वाहन की व्यवस्था हेतु नगर क्षेत्र की ओर गये। काफी प्रयासों के बाद चीता पुलिस ने स्वयं के खर्चे पर एक टैक्सी वाहन बुक की तथा वाहन चालक का मोबाईल नम्बर लेकर उसे समय पर महिला को घर पहुंचाने हेतु कहा गया। तत्पश्चात टीम ने उक्त महिला व उसके बच्चों को वाहन में बैठाकर सकुशल घर के लिए भेजा गया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी...गरिमा देवभूमि शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार 2022 से सम्मानित

कुछ समय पश्चात पुलिस टीम द्वारा वाहन चालक व महिला से मोबाइल फोन से वार्ता कर घर पहुंचने के सम्बन्ध में जानकारी की गई तो महिला द्वारा बताया गया कि वह अपने बच्चों के साथ सकुशल घर पहुंच गई हैं। महिला द्वारा इस मानवीय कार्य के लिए उत्तराखण्ड पुलिस के मिशन हौसला अभियान की सराहना करते हुए कोतवाली चीता पुलिस टीम का आभार व्यक्त किया गया। पुलिस की चीता टीम में आरक्षी अशोक पंवार व सुनील बहुगुणा शामिल थे।

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here