हल्द्वानी : गोल्डन कार्ड से इलाज न होने पर शिक्षकों में आक्रोश

0
सांकेतिक फोटो
Ad

हल्द्वानी। गोल्डन कार्ड से इलाज करने में हल्द्वानी की कई अस्पताल अभी भी ना नूपुर कर रहे हैं, जबकि गोल्डन कार्ड बने कर्मचारियों एवं शिक्षकों का इलाज कैशलेस इलाज होता है संगठन द्वारा बार-बार प्रांतीय नेतृत्व को इस बारे में अवगत कराया गया है अगर गोल्डन कार्ड से इलाज नहीं होता है तो शिक्षकों की प्रतिमाह हो रही कटौती बंद की जाए और पूर्व की व्यवस्था बहाल की जाए अगर शीघ्र ही इस पर कोई उचित निर्णय नहीं होता है तो संगठन इस गोल्डन कार्ड के खिलाफ आवाज बुलंद करेगा। कई अस्पताल गोल्डन कार्ड को स्वीकार नहीं कर रहे हैं और गोल्डन कार्ड बने शिक्षकों से पूरा-पूरा पैसा वसूल रहे हैं जबकि यह नियम के विरुद्ध है सरकार द्वारा स्पष्ट आदेश है कि गोल्डन कार्य में सभी कर्मचारियों/शिक्षकों को कैशलेस इलाज प्राप्त होगा, महा जनवरी 2021 से लगातार शिक्षकों के वेतन से गोल्डन कार्ड की नियमित कटौती सरकार द्वारा प्रारंभिक की जा चुकी है इसके बावजूद भी शिक्षकों को इन गोल्डन कारणों से इलाज नहीं मिल पा रहा है जिससे संगठन में तीव्र आक्रोश व्याप्त है।

Ad
Ad
यह भी पढ़ें 👉  नई टिहरी… एसडीआरएफ ने रक्षित का शव झील से बरामद किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here