काम की बात… आकाशीय बिजली से बचने के कुछ उपाय

0
Ad

मानसून आ गया है और मौसम विभाग तकरीबन हर रोज अलर्ट जारी कर रहा है। ऐसे में आकाशीय बिजली या वज्रघात का खतरा और बढ़ गया है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आकाशीय बिजली या वज्रघात के समय क्या सवधानियां बरतनी चाहिए।

फोटो स्त्रोत: गूगल


डायरेक्ट स्ट्राइक :
वज्रपात पीडित को सीधे स्ट्राइक कर सकता है। यह स्थिति अत्यंत घातक होता हैं।
संपर्क चोट : यह तब होता है जब बिजली किसी वस्तु कार या धातु के खंभे से टकराती है जिससे पीडित व्यक्ति स्पर्श कर रहा होता है। ऐसी स्थिति पीडि़त व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो सकता है। साईड फलैश: यह तब होता है जब बिजली छिटक जाती है या किसी वस्तु से टकरा जाती है है। जैसे कि पीडि़त व्यक्ति पर पेड खंभा आदि गिर जाये।

फोटो स्त्रोत: गूगल


ग्राउंड कंरट : यह तब होता है जब बिजली पीडि़त के पास जमीन से टकराती है और ग्राउंड कंरट जमीन से होकर पीडि़त को स्ट्राइक करता है।
स्ट्रीमर : जब बिजली/वज्रपात हवा को चार्ज कर देता है तो उर्जा प्रभाव या स्ट्रीमर जमीन के पास की वस्तुओं से उपर की ओर आ सकते है। कभी कभी ये स्ट्रीमर लोगों के माध्यम से उपर की ओर जाते है । जिससे पीडि़तों को नुकसान होता है।

फोटो स्त्रोत: गूगल


धमाके से चोट: बिजली के विस्फोट प्रभाव के कारण पीडि़त व्यक्ति उस स्थल से दूर तक फेंका जा सकता इस कारण उसे गहरी चोट पहुंच सकती है।
आकाशीय बिजली या वज्रपात से संबंधित कुछ महत्तवपूर्ण तथ्य:

यह भी पढ़ें 👉  सुप्रभात…आज का पंचांग, आज का इतिहास, आचार्य पंकज पैन्यूली से जानें अपना आज का राशिफल
फोटो स्त्रोत: गूगल


बाहरी गतिविधियां खेतों, औद्योगिक स्थान, लोडिंग और अनलोडिंग जैसे निर्माण और सामग्री हैंडलिंग वाले स्थलों में काम करने वाले लोग सबसे अधिक प्रभावित होते है। एक जगह पर कई बार वज्रपात हो सकता है। विशेष रूप से उँचे नुकीले संरचना/पेडों से। आकाशीय बिजली/वज्रपात वर्ष के किसी भी समय गिर सकती है परंतु मानसून के पूर्व जून जूलाई में आम तौर ऐसी घटनायें सबसे अधिक होती है। दोपहर और छ: बजे के बीच आकाशीय बिजली/वज्रपात की घटनायें सर्वाधिक देखी गई है। रबर शोल के जूते अथवा टायर से बचाव नहीं हो सकता है। यह आवश्यक नहीं है कि बारिश के दौरान ही वज्रपात हो। ऐसी घटना बारिश वाले सत्र में 10 मील दूर तक हो सकती है अथवा तूफान आने के पहले या बाद में ऐसी घटना हो सकती है।

फोटो स्त्रोत: गूगल


सुरक्षित संरचना / घर कार्यस्थल के अंदर सुरक्षात्मक उपाय:
बिजली एवं इलेक्ट्रॉनिक के उपकरणों के संपर्क में नहीं रहे और इनका पॉवर प्लग निकाल दें ताकि मुख्य सप्लाई से बिजली का प्रवाह नहीं हो पायें। अपने कम्प्यूटर लेपटॉप, गेम सिस्टम, वॉशर, ड्रायर, स्ट्रोव या इलेक्ट्रिकल आउटलेट से जुड़ी किसी भी चीज का उपयोग ना करें। बिजली इलेक्ट्रिकल सिस्टम, रेडियो और टेलीविजन रिसेप्शन सिस्टम और कंकीट की दीवारों फर्श में किसी भी धातु के तारों के माध्यम से यात्रा कर सकती है। घर का अर्थिंग होना सुनिश्चित कर ले। खिडकियाँ, दरवाजे बंद रखे खुले हुए खिड़की , दरवाजे अथवा धातु के पाइप इत्यादि के पास खड़े नहीं रहें। खिड़कियों, दरवाजों बरामदों और कंक्रीट से बचें। कंक्रीट के फर्श पर ना लेटें। इसके आलावा कंक्रीट की दीवारों पर झुकाव से बचें। बिजली किसी भी धातु के तारों या कंक्रीट की दीवारों या फर्श में सलाखों के माध्यम से यात्रा कर सकती है। पानी के धातु पाइप से बिजली प्रवाहित हो सकती है। यदि आपके क्षेत्र में बिजली गिरने की संभावना हो तो इस पाइप लाइन से दूर रहें। कॉर्डलेस फोन से बचें गरज के दौरान कॉर्डलेस फोन का उपयोग करना सुरक्षित नहीं है । उनका उपयोग न करें । हालांकि तूफान के दौरान कॉर्डलेस या सेलुलर फोन का उपयोग करना सुनिश्चित है। खाली पैर फर्श या जमीन पर ना खड़े रहें घर के पोर्च से दूर रहें। स्नान, बर्तन धोना या पानी के साथ कोई अन्य संपर्क न करें क्योंकि बिजली इमारत की पाइप लाईन से यात्रा कर सकती है।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून…ब्रेकिंग न्यूज: पूर्व सीएम बीसी खंडूरी हुए कोरोना संक्रमित
फोटो स्त्रोत: गूगल


घर से बाहर सुरक्षात्मक उपाय: प्रवाहकीय सामग्री से दूर रहें धातु का मचान, धातु के उपकरण पानी के पाईप या प्लबिंग सहित बिजली का संचालन करने वालों सामग्री या सतहों को न छुए । लंबी संरचानाओं से बचें बिजली के खंभे टेलीफोन के खंभे उंचा पेड, छत, मचान, उपयोगिता खंभे, सीढी पेड और बड़े उपकरण जैसे बुलडोजर, केन और ट्रेक्टर सहित लंबे या उचें वस्तुओं से अथवा पहाड़ी के टेकरी से दूर रहें बिजली ऐसे ही स्थलों पर अधिकतम गिरती है अथवा प्रवाहित होती है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी...इस बार जन्माष्टमी आज या कल, जानें सही ज्योतिष जानकारी


विस्फोटक से दूर रहें: यदि आप विस्फोटकों के क्षेत्र में है तो यहाँ से तुरंत सुरक्षित स्थल की ओर चले जाएँ। दोपहिया वाहन से दूर रहें साईकिल दोपहिया वाहन अथवा अन्य वाहनों से तुरंत उतर कर किसी सुरक्षित स्थल की ओर जाएं ये वाहन विदयुत की आकर्षित कर सकते है। धातु संरचना अथवा धातु शीट वाले संरचना से दूर रहें। पानी से दूर रहें । पानी बिजली को आकर्षित करता है अत: पानी में रहना सुरक्षित नहीं है यदि आप बोट अथवा पानी में हो तो तत्काल सतह पर आ कर अपने को बचाएं तालाब नदी के किनारों नाव आदि खुले स्थानों में ना रहें। यदि आप सडक़ पर है तथा तुरंत किसी सुरक्षित स्थल में नहीं जा सकते हो, तो कोई ऐसी गाडी जिसकी छत अत्यंत मजबूत हो , सुरक्षित स्थल हो सकता है। यदि आप उंचाई वाले खुले स्थान में घिर गये हो तो निचले स्थल की तरफ चलें जायें।

फोटो स्त्रोत: गूगल


यदि आपको बिजली चमकने के 10 सेकेण्ड के बाद गर्जन सुनाई देती है तो इसका मतलब है कि वो आपसे 3 कि.मी. दूर है। तुरंत ही सुरक्षित आश्रय ढूंढे, गर्जन सुनने के बाद कम से कम तीस मिनट तक सुरक्षित स्थल पर रहें। यदि लोगों के समूह में हो तो अलग – अलग खड़े हो जाएं।

Ad
Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here