उत्तराखंड… रेलवे में नौकरी के नाम पर 44 लाख की ठगी करने वाले दो ठग गिरफ्तार

0

देहरादून। देहरादून पुलिस ने दो युवकों को रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने के आरोप पर गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपियों ने छह बेरोजगार युवाओं से नौकरी के नाम पर 44 लाख रुपयों की ठगी की थी।

पुलिस जानकारी के अनुसार, 5. जून 2022 को पौड़ी के सतपुली के मिशन हास्पपीटल रोड पर रहने वाले सोनू ने कोतवाली ऋषिकेश में एक लिखित तहरीर देते हुए बताया था कि संदीप कुमार के द्वारा अपने दोस्त के साथ मिलकर ऋषिकेश में संपर्क कर रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर कुल 14 लाख की धोखाधड़ी की है।

यह भी पढ़ें 👉  सितारगंज…खटीमा की इस पंचायत के प्रधान पर पत्नी ने लगाए दहेज उत्पीड़न व विवाहेत्तर संबंधों के आरोप, केस दर्ज


प्राप्त लिखित तहरीर के आधार पर कोतवाली ऋषिकेश में मुकदमा दर्ज किया गया। जांच पड़ताल शुरू हुईं, इस बीच दूसरे मामले में 15 अगस्त त्रिलोकी दास व उसके साथियों ने कोतवाली ऋषिकेश में एक लिखित तहरीर देते हुए संदीप कुमार एवं रविंद्र तथा उनके अन्य दो दोस्तों के द्वारा ऋषिकेश में संपर्क कर रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर कुल 6 युवाओं से कुल 30 लाख रूपए की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया था।


प्राप्त लिखित तहरीर के आधार पर कोतवाली ऋषिकेश में मुकदमा दर्ज किया गया। इन मामलों की जांच के बाद आरोपियों को दबोचने के लिए टीमों का गठन किया गया। कल पुलिस ने हरिद्वार के रानीपुर स्थित लोटस गंगा कालोनी में रह रहे संदीप कुमार को गिरफ्ातर किया। संदीप मूल रूप से यूपी के बिजनौर जिले के स्योहारा थाना क्षेत्र के मिसकियाँ गांव का रहने वाला है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल…पांच पुलिसकर्मियों की सेवानिवृत्ति पर एसएसपी ने दी यादगार विदाई


उसके साथ लोटस गंगा कालोनी रोशनाबाद में ही रहे बिजनौर के धामपुर थाना क्षेत्र के रतनपुर गांव निवासी रविंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों आरोपियों से पूछताछ के आधार पर उनके और साथियों को चिन्हिमत किया गया है। अब उनकी गिरफ्तारी की की तैयारी की जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  सुप्रभात… 30नवंबर 2022 : आज का पंचांग, आज का इतिहास और आचार्य पंकज पैन्यूली सेउजानें अपना आज का राशिफल


संदीप कुमार सिडकुल हरिद्वार में एक फैक्ट्री में काम करता है तथा रविन्द्र की रोशनाबाद में कास्मेटिक्स की दुकान है। उनका एक साथी पहले ऋशिकेश में रहता था वह भी मूल रूप से का ही रहने वाला है। तीनो साथ मिलकर नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं को रेलवे में नौकरी लगवाने का झांसा देकर उनसे पैसों की ठगी कर लेते थे। ऋशिकेष में रहने वाला शातिर संदीप को एफसीआई ऑफिसर तथा रविन्द्र को रेलवे का अधिकारी बताता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here