More
    Homeउत्तराखंडउत्तराखंड…कोविड मौतों पर भाजपा विधायक ने ही सरकार पर उठाए सवाल

    उत्तराखंड…कोविड मौतों पर भाजपा विधायक ने ही सरकार पर उठाए सवाल

    spot_imgspot_imgspot_img

    देहरादून। कोविड काल में आक्सीजन की कमी से एक भी मौत न होने के सरकार के दावे पर भाजपा विधायक प्रदीप बत्रा ने ही सवाल उठा दिया। रुड़की के एक अस्पताल में कोविड काल में हुई मौतों के लिए सरकारी जांच रिपेार्ट को सवाल उठाते हुए बत्रा ने कहा कि मौत वास्तव में आक्सीजन की कमी और लापरवाही के कारण हुईं थी।


    सरकार को पूर्व में की गई जांच की भी उच्च स्तरीय जांच करनी चाहिए। पार्टी विधायक के तेवरों से एक बार को सरकार असहज हो गई थी। इस बीच विस अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी के अगला प्रश्न आमंत्रित कर लेने से यह विषय रह गया।

    उत्तराखंड…डीजीपी को भी नहीं बख्‍शा साईबर ठगों ने, केस दर्ज

    कांग्रेस के झबरेडा विधायक विरेंद्र कुमार जाति ने यह मामला उठाया था। उन्होंने सरकार से कोविड काल में आक्सीजन की कमी के कारण हुई मौतों की जानकारी मांगी। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि राज्य में एक भी मौत आक्सीजन की कमी से नहीं हुई है।

    हल्द्वानी…अग्निपथ भर्ती योजना का विरोध कर रहे युवाओं को पुलिस ने दौड़ा— दौड़ा कर पीटा

    राज्य में आक्सीजन का पर्याप्त इंतजाम था। प्रत्येक अस्पताल में उसकी जरूरत के अनुसार आक्सीजन तत्काल पहुंचाई गई। राज्य के सभी जिलों के अस्पतालों में 86 पीएसए आक्सीजन प्लांट स्थापित किए गए।

    उत्तराखंड…डीजीपी को भी नहीं बख्‍शा साईबर ठगों ने, केस दर्ज


    मंत्री द्वारा पेश किए जा रहे आंकड़ों पर जाति ने विरेाध जताया। कहा कि आंकड़े भले ही जो कहें, लेकिन हकीकत कुछ और ही है। दूर नहीं बल्कि रुड़की में ही एक अस्पताल में कोविड काल में आक्सीजन न मिलने के कारण कई मरीजों की मौत हुई थी। जाति के सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि रुड़की अस्प्ताल मामले में सरकार ने जांच बिठाई थी।

    हल्द्वानी…15 मिनट की बौछारें और फिर वही हाल


    ज्वाइंट मजिस्ट्रेट की रिपेार्ट में मौत की वजह आक्सीजन को नहीं बताया गया। मौत का शिकार लोगों को कोरोना के साथ और भी कुछ गंभीर बीमारियां थीं। स्वास्थ्य मंत्री जवाब पूरा कर पाते, इससे पहले ही रुड़की विधायक प्रदीप बत्रा अपनी सीट पर खड़े हो गए।

    हल्द्वानी…नशे के 120 इंजेक्शनों के साथ एक गिरफ्तार

    उन्होंने मंत्री के जवाब को खारिज करते हुए कहा कि रुड़की के अस्पताल में आक्सीजन की कमी के कारण ही मरीजों की मौत हुई थी। यह सत्य है। बत्रा को अपनी ही सरकार के बयान पर सवाल उठाते देख स्वास्थ्य मंत्री भी भौचक से उन्हें देखते रह गए।

    बत्रा ने मंत्री से कहा कि क्या सरकार पूर्व में हुई जांच की उच्च स्तरीय जांच कराएगी? इस पर जाति ने भी सरकार से जवाब पूछा कि क्या सरकार इस मामले की जांच कराएगी? सरकार की और से जवाब दे चुके स्वास्थ्य मंत्री तब तक बैठ गए थे। विस अध्यक्ष ने दूसरा सवाल आमंत्रित कर लेने से इस विषय पर सरकार की ओर से जवाब नहीं आ पाया।

    यह गंभीर विषय है। मैने सदन में सरकार से पूर्व में हुई जांच की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।
    प्रदीप बत्रा, रुड़की से भाजपा विधायक

    India : Covid update
    43,452,164
    Total confirmed cases
    Updated on June 30, 2022 12:23 pm
    - Advertisment -spot_imgspot_img
    spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    UPDATES

    UTTARAKHAND

    Recent Comments :

    उत्तराखंड…कोविड मौतों पर भाजपा विधायक ने ही सरकार पर उठाए सवाल

    देहरादून। कोविड काल में आक्सीजन की कमी से एक भी मौत न होने के सरकार के दावे पर भाजपा विधायक प्रदीप बत्रा ने ही सवाल उठा दिया। रुड़की के एक अस्पताल में कोविड काल में हुई मौतों के लिए सरकारी जांच रिपेार्ट को सवाल उठाते हुए बत्रा ने कहा कि मौत वास्तव में आक्सीजन की कमी और लापरवाही के कारण हुईं थी।


    सरकार को पूर्व में की गई जांच की भी उच्च स्तरीय जांच करनी चाहिए। पार्टी विधायक के तेवरों से एक बार को सरकार असहज हो गई थी। इस बीच विस अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी के अगला प्रश्न आमंत्रित कर लेने से यह विषय रह गया।

    उत्तराखंड…डीजीपी को भी नहीं बख्‍शा साईबर ठगों ने, केस दर्ज

    कांग्रेस के झबरेडा विधायक विरेंद्र कुमार जाति ने यह मामला उठाया था। उन्होंने सरकार से कोविड काल में आक्सीजन की कमी के कारण हुई मौतों की जानकारी मांगी। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि राज्य में एक भी मौत आक्सीजन की कमी से नहीं हुई है।

    हल्द्वानी…अग्निपथ भर्ती योजना का विरोध कर रहे युवाओं को पुलिस ने दौड़ा— दौड़ा कर पीटा

    राज्य में आक्सीजन का पर्याप्त इंतजाम था। प्रत्येक अस्पताल में उसकी जरूरत के अनुसार आक्सीजन तत्काल पहुंचाई गई। राज्य के सभी जिलों के अस्पतालों में 86 पीएसए आक्सीजन प्लांट स्थापित किए गए।

    उत्तराखंड…डीजीपी को भी नहीं बख्‍शा साईबर ठगों ने, केस दर्ज


    मंत्री द्वारा पेश किए जा रहे आंकड़ों पर जाति ने विरेाध जताया। कहा कि आंकड़े भले ही जो कहें, लेकिन हकीकत कुछ और ही है। दूर नहीं बल्कि रुड़की में ही एक अस्पताल में कोविड काल में आक्सीजन न मिलने के कारण कई मरीजों की मौत हुई थी। जाति के सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि रुड़की अस्प्ताल मामले में सरकार ने जांच बिठाई थी।

    हल्द्वानी…15 मिनट की बौछारें और फिर वही हाल


    ज्वाइंट मजिस्ट्रेट की रिपेार्ट में मौत की वजह आक्सीजन को नहीं बताया गया। मौत का शिकार लोगों को कोरोना के साथ और भी कुछ गंभीर बीमारियां थीं। स्वास्थ्य मंत्री जवाब पूरा कर पाते, इससे पहले ही रुड़की विधायक प्रदीप बत्रा अपनी सीट पर खड़े हो गए।

    हल्द्वानी…नशे के 120 इंजेक्शनों के साथ एक गिरफ्तार

    उन्होंने मंत्री के जवाब को खारिज करते हुए कहा कि रुड़की के अस्पताल में आक्सीजन की कमी के कारण ही मरीजों की मौत हुई थी। यह सत्य है। बत्रा को अपनी ही सरकार के बयान पर सवाल उठाते देख स्वास्थ्य मंत्री भी भौचक से उन्हें देखते रह गए।

    बत्रा ने मंत्री से कहा कि क्या सरकार पूर्व में हुई जांच की उच्च स्तरीय जांच कराएगी? इस पर जाति ने भी सरकार से जवाब पूछा कि क्या सरकार इस मामले की जांच कराएगी? सरकार की और से जवाब दे चुके स्वास्थ्य मंत्री तब तक बैठ गए थे। विस अध्यक्ष ने दूसरा सवाल आमंत्रित कर लेने से इस विषय पर सरकार की ओर से जवाब नहीं आ पाया।

    यह गंभीर विषय है। मैने सदन में सरकार से पूर्व में हुई जांच की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।
    प्रदीप बत्रा, रुड़की से भाजपा विधायक

    India : Covid update
    43,452,164
    Total confirmed cases
    Updated on June 30, 2022 12:23 pm
    - Advertisment -spot_imgspot_img
    spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    UPDATES

    UTTARAKHAND

    Recent Comments :