अल्मोड़ा न्यूज : उपपा ने पुलिस अफसरों को जेल अधीक्षक बनाए जाने के फरमान को निरस्त करने वाले हाईकोर्ट के आदेश का किया स्वागत

0
Ad

अल्मोड़ा । उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने नैनीताल उच्च न्यायालय द्वारा पुलिस अधिकारियों को जेल अधीक्षक बनाए जाने के प्रदेश सरकार के गैरकानूनी आदेश को निरस्त करने का स्वागत किया है। उपपा के केंद्रीय अध्यक्ष पी. सी. तिवारी ने कहा कि 12 फरवरी को प्रदेश सरकार द्वारा ज़ारी किए गए इस आदेश के ख़िलाफ़ 19 फरवरी को उपपा ने प्रदेश राज्यपाल को इस आदेश के दुष्परिणामों को देखते हुए इसे निरस्त करने का ज्ञापन भेजा था।
उपपा के केंद्रीय अध्यक्ष तिवारी ने कहा कि उत्तराखंड सरकार का यह आदेश भारतीय संविधान की भावना व कानूनों के दावे- निष्पक्ष तरीके से न्यायिक सुनवाई को प्रभावित करने वाला था जिसके चलते आम नागरिक व जेलों में पुलिस प्रशासन की मनमानी से बंद होने वाले लोगों के सामने गंभीर स्थिति पैदा हो रही थी।

Ad

प्रदेश की ताजा खबरों के लिए जुड़े व्हाट्स एप ग्रुप से 👉 Click Now 👈

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून…विधानसभा भर्ती धांधली: व्हाट्सएप पर भेजे जा रहे बर्खास्तगी पत्र

उपपा अध्यक्ष ने कहा कि पुलिस प्रशासन व जांच एजेंसियां अपने राजनीतिक आकाओं को प्रसन्न करने के लिए बहुत से निरपराध लोगों को जेलों में बंद करती है। ऐसे में कारागारों में पुलिस अधिकारियों को तैनात करने का फैसला भारतीय संविधान के ख़िलाफ़ था। उच्च न्यायालय ने आज इस फैसले को निरस्त कर सरकार में चल रही मनमानी पर रोक लगाई है। उपपा इसका स्वागत करती है।

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here