उत्तराखंड ब्रेकिंग : हो गया तय, 18 के बाद भी जारी रहेगा कर्फ्यू, इन पर होगी और सख्ती!

0

देहरादून। कोरोना की रोकथाम के लिए प्रदेश में 18 मई के बाद 25 मई तक कर्फ्यू बढ़ाया जा सकता है। यही नहीं इस बार कुछ और सख्त प्रतिबंध लागू किए जा सकते हैं। इनमें से एक प्रस्ताव यह भी है कि शादियों में शामिल होने वाले सभी लोगों के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट निगेटिव रिपोर्ट दिखाना आवश्यक होगी।
उत्तराखंड के आज की बड़ी खबर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए तीरथ सरकार प्रदेश में जारी सख्त कोरोना कर्फ्यू को एक हफ्ता बढ़ा सकती है। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल के अनुसार सीएम से चर्चा हो चुकी है और सैद्धांतिक सहमति भी मिल चुकी है। वे कहेत हैं कि फिलहाल सरकार की प्राथमिकता कोरोना की चेन तोड़ना है। जिसके लिए कम से कम एक हफ्ता और कर्फ्यू होना चाहिए। प्रदेश में फिलवक्त जो कर्फ्यू चल रहा है वह 18 मई की सुबह 6 बजे समाप्त हो जाएगा।मंत्री उनियाल का कहना है कोरोना कर्फ्यू के आदेश को सिलसिलेवार आगे बढ़ाने का फैसला हो चुका है।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा…ब्रेकिंग : प्रो. जगत सिंह बने एसएस जीना विवि अल्मोड़ा के अस्थाई कुलपति

आपको हमारी खबरें यदि अपने मोबाइल पर नहीं मिल पा रही हैं तो, नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करके बनें हमारे व्हाट्स ग्रुप के सदस्य और पाएं ताजी खबरें सबसे पहले

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी…ब्रेकिंग : नैनीताल रोड स्थित गुरूतेग बहादुर इंटर कालेज के गेट पर चाकूबाजी, एक छात्र घायल

https://chat.whatsapp.com/FRtyqY0WRlHKZxyPPM4AkI

एक साथ लंबा कर्फ्यू लोगों को मानसिक तौर पर बेचैन करता है इसलिए इसको हफ्ता बार बढ़ाने का फैसला किया गया है। उनका मानना है कि मौजूदा कर्फ्यू के नतीजे 22-23 मई के बाद दिखाई देने शुरू होंगे। इसके बाद अगले हफ्ते भी कर्फ्यू,प्रतिबंध और रियायत को लेकर सरकार फिर से चर्चा करेगी। हालांकि अभी के हालात फिलहाल ऐसे नहीं है कि कर्फ्यू को 18 मई के बाद आगे न बढ़ाना पढ़े। उनका कहना है कि सीएम भी मान चुके हैं कि सख्ती हो और कर्फ्यू में फिलहाल ढील न दी जाए। उनियाल ने बताया कि सरकार उन कोविड-19 अस्पतालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। जो कोरोना से हुई मौतें छुपा रहे हैं। इसके अलावा जिन निजी चिकित्सालयों में आयुष्मान और अन्य योजनाओं से आच्छादित लोगों और कर्मचारियों को या तो भर्ती नहीं किया जा रहा है या फिर कैशलेस के बजाय कैश लेकर इलाज किया जा रहा है। उनके खिलाफ भी कार्रावाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here