पंजाब…मुबारकां: डॉ. गुरप्रीत कौर संग विवाह बंधन में बंधे पंजाब के सीएम भगवंत मान

0
Ad

चंडीगढ़। पंजाब के सीएम भगवंत मान गुरुवार को डॉ. गुरप्रीत कौर के साथ विवाह बंधन में बंध गए। ये शादी सिख रीति रिवाज के साथ सीएम आवास में हुई। शादी में सांसद राघव चड्ढा और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी शादी में मौजूद रहे। केजरीवाल ने शादी में पिता की तरह रस्में निभाईं। शादी में मान और गुरप्रीत के परिवार के अलावा केजरीवाल का परिवार भी शामिल हुआ। सांसद राघव चड्ढा अपनी मां के साथ शादी में पहुंचे।


शादी के आयोजन का खर्च सीएम भगवंत मान ने उठाया। भगवंत मान की मां हरपाल कौर की ख्वाहिश थी कि मुख्यमंत्री भगवंत मान अपना घर फिर से बसा लें। इसके बाद सीएम शादी के लिए राजी हुए थे। सीएम भगवंत मान के लिए मां और बहन मनप्रीत कौर ने खुद लड़की चुनी है। पंजाब के मुख्यमंत्री बनने से पहले भगवंत मान संगरूर से दो बार सांसद रह चुके हैं। भगवंत मान की पत्नी उनके परिवार की करीबी हैं। लंबे समय से भगवंत मान और गुरप्रीत कौर एक-दूसरे को जानते हैं।
सीएम केजरीवाल ने दी बधाई


दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भगवंत मान को शादी की बधाई दी। उन्होंने ट्वीट किया कि भगवंत मान और गुरप्रीत भाभी को विवाह की ढेरों शुभकामनाएं। आप दोनों को भगवान खूब खुश रखे और दुनिया की सारी खुशियां दें।
इंद्रप्रीत कौर से हुई थी पहली शादी
भगवंत मान की यह दूसरी शादी है। मान की पहली शादी इंद्रप्रीत कौर के साथ हुई थी। भगवंत मान के बेटे दिलशान मान (17) और बेटी सीरत कौर मान (21) अमेरिका में अपनी मां इंद्रप्रीत कौर के साथ रहते हैं। 20 मार्च 2015 को भगवंत मान और इंद्रप्रीत कौर ने कोर्ट में आपसी सहमति से तलाक की अर्जी लगाई थी। इस अर्जी में मान का तर्क था कि वे राजनीति के चलते अपनी पत्नी से तलाक ले रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक कोर्ट में दी गई अर्जी में भगवंत मान की पत्नी ने शर्त रखी थी कि वे अगर मान भारत छोड़कर कैलिफोर्निया शिफ्ट हो जाते हैं तो तलाक की अर्जी वापस ले लेंगी। दूसरी ओर मान राजनीति छोड़कर विदेश नहीं जाना चाहते थे। मान का तर्क था कि वे लोगों का विश्वास नहीं तोड़ सकते। अगर उनकी पत्नी उनके साथ भारत में सैटल होना चाहती हैं तो वे तलाक की अर्जी वापस ले लेंगे। भगवंत मान ने अपने तलाक का कारण अपने फेसबुक पेज पर भी शेयर किया था। इमसें उन्होंने लिखा था, ‘जो लटका समय से था वह हल हो गया, कोर्ट विच्च फैसला यह कल हो गया, इक पासे परिवार, दूजे पासे सी पंजाब, मै तो यारो अपने पंजाब वल्ल हो गया।’

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी…इंपैक्ट फीचर: फ्यूचर फोरम की छात्रा नेहा शास्त्री ने पंतनगर यूजी में हासिल की 4थी रैंक, शुभकामनाओं का अंबार


शादी के दिन ट्वीट किया… दिन शगना दा चढ़ेया…
चंडीगढ़। पंजाब के सीएम भगवंत मान गुरुवार को हरियाणा की डॉक्टर गुरप्रीत कौर के साथ विवाह बंधन में बंध गए। 29 साल की गुरप्रीत कौर ने शादी के दिन ट्वीट किया… दिन शगना दा चढ़ेया…
गुरप्रीत कौर कुरुक्षेत्र के पिहोवा के गांव गुमथला गढू की हैं। डॉ. गुरप्रीत कौर का परिवार खुद भी सियासी रसूख रखता है। उनके मामा जसवंत सिंह कांग्रेसी हैं। वहीं उनके फुफेरे भाई एडवोकेट अमन चीमा भी कांग्रेस के नेता हैं। उनके पिता के चचेरे भाई एडवोकेट गुरिंद्र सिंह नत आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता हैं। उन्होंने नगर निकाय चुनाव से पहले ही कांग्रेस छोड़कर आप का दामन थामा था। डॉ. गुरप्रीत कौर के पिता भी गांव के पूर्व सरपंच रहे हैं। दूल्हा बने सीएम भगवंत मान पीले रंग के कुरते में काफी जंच रहे थे। वहीं डॉ. गुरप्रीत कौर ने लाल रंग का लहंगा पहना था। शादी में सांसद राघव चड्ढा भी मौजूद रहे। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी परिवार के साथ शादी में शरीक हुए। पूर्व मंत्री स्व. जसविंद्र सिंह संधू के छोटे बेटे हरकीरत संधू की पत्नी रिश्तेदारी में डॉ. गुरप्रीत कौर की बहन लगती है। इस नाते से हरकीरत संधू पंजाब के सीएम के साढू बन गए हैं। गुरप्रीत कौर के चाचा एडवोकेट गुरविंदर जीत सिंह नत ने पिछले महीने ही आम आदमी पार्टी ज्वाइन की थी। उन्होंने 1991 में पिहोवा विधानसभा से आजाद प्रत्याशी के रूप में चुनाव भी लड़ा था। वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री हरमोहिंद्र सिंह चट्ठा के भी नजदीकी रहे हैं। बाद में कांग्रेस छोड़कर वह
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने सीएम मान की शादी में पिता की तरफ रस्में निभाईं। केजरीवाल ने भगवंत मान को शादी की बधाई देते हुए ट्वीट किया कि भगवंत मान और गुरप्रीत भाभी को विवाह की ढेरों शुभकामनाएं। आप दोनों को भगवान खूब खुश रखे और दुनिया की सारी खुशियां दें। सीएम मान की शादी के बाद सीएम हाउस के कर्मचारियों ने बाहर आकर पुलिसकर्मियों को मिठाई खिलाई।
डॉ. गुरप्रीत कौर के पिता इंद्रजीत सिंह किसान हैं। उनके पास गांव गुमथला गढू में करीब 50 एकड़ जमीन है। डॉ. गुरप्रीत कौर की माता राज हरजिंद्र कौर गृहिणी हैं। सीएम मान के ससुर इंद्रजीत सिंह के पास कनाडा की नागरिकता भी है। गुरप्रीत की बड़ी बहन नीरू की शादी अमेरिका में हुई है। दूसरी बहन जग्गू ऑस्ट्रेलिया में अपने परिवार के साथ रहती हैं। भगवंत मान की शादी सिख रीति-रिवाज से हुई। शादी के आयोजन का खर्च भी खुद सीएम भगवंत मान ने उठाया। भगवंत मान की मां हरपाल कौर की ख्वाहिश थी कि मुख्यमंत्री भगवंत मान अपना घर फिर से बसाएं। सीएम भगवंत मान के लिए मां और बहन मनप्रीत कौर ने खुद लड़की चुनी है।

यह भी पढ़ें 👉  ये क्या: चार साल की बेटी बोली- मां कुएं में क्यों डाल रही हों, मां ने एक- एक कर चार बच्चे कुएं में फेंक दिए


जश्न में डूबा मान का पैतृक गांव सतौज


संगरूर (पंजाब)। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान का विवाह भले ही चंडीगढ़ में हुआ लेकिन जश्न उनके पैतृक गांव में भी देखने को मिला। गुरुवार को पूरा गांव जश्न में डूबा नजर आया। इस दौरान जहां महिलाओं ने गिद्दा डालकर अपनी खुशी साझा की, वहीं युवाओं ने एक जगह पर डीजे लगाकर खूब भंगड़ा डाला। गांव में मिठाई भी बांटी और सीएम मान को शादी की बधाई दी।उल्लेखनीय है गांव सतौज मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान का पैतृक गांव है। इसी गांव की गलियों में उन्होंने अपना बचपन और जवानी का समय बिताया। कॉमेडी किंग से सियासत में आए भगवंत मान के गांव वाले उन्हें बहुत प्यार करते हैं और गांववासियों को अपने इस पुत्तर पर बहुत गर्व है कि वह राज्य के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हैं।


सीएम मान के विवाह की खबर जैसे ही गांववासियों को लगी तो पूरा गांव एकजुट होकर खुशी के पलों में शामिल हो गया। सुबह से ही गांव के ज्यादातर लोग टीवी पर विवाह समागम की पल-पल की खबर देख रहे थे। जैसे ही भगवंत मान और उनकी पत्नी डॉ. गुरप्रीत कौर के आनंद कारज हुए तो पूरे गांव में जश्न जैसा माहौल बन गया। देखते ही देखते ग्रामीण एक स्थान पर जुटे और जश्न मनाया। गांववासियों में खुशी इस कदर झलक रही थी कि वह खुशी से फूले नहीं समा पा रहे हैं। बच्चे, जवान और बुजुर्ग सभी बहुत खुश नजर आ रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉  ये क्या…पब्लिक स्कूल में सिख छात्रो के कड़े उतरवाए, हंगामा, प्रिंसिपल व दो अध्यापक बर्खाश्त

इसके बाद गांव की महिलाओं ने एक जगह इकट्ठा होकर बोलियों पर खूब गिद्दा डाला। इनमें बुजुर्ग महिलाएं, युवतियां और छोटी बच्चियां भी शामिल थीं।
युवाओं ने अपनी तरफ से अलग जश्न मनाने का प्रोग्राम बनाया। उन्होंने डीजे बुक करवा रखा था, जिस पर वह खूब थिरके। इसके अलावा कुछ युवाओं ने ढोल पर भंगड़ा डालकर अपनी खुशी का इजहार किया। बातचीत करते गांव के सरपंच चरना सिंह और हरविंदर सिंह रिशी ने बताया कि भगवंत मान के विवाह की खबर मिलने पर ही गांव में खुशी का माहौल बन गया। गुरुवार को भगवंत मान के आनंद कारज होने के बाद गांव में मिठाई बंटना शुरू हो गई। उन्होंने भगवंत मान को विवाह की बधाई देते हुए कहा कि उनकी जिंदगी की नई शुरुआत खुशियों से भरी रहे। इस दौरान गांववासियों ने गांव से गुजरती बसों में सवार लोगों का भी मुंह मीठा करवाया। इसके अलावा संगरूर शहर में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विवाह की खुशी में भंगड़ा डाला और मिठाई बांटकर एक दूसरे से खुशी साझा की।


सालियों को दिया यह गिफ्ट, खुद उठाया शादी का खर्च
शादी के आयोजन का खर्च मुख्यमंत्री भगवंत मान ने खुद उठाया। भगवंत ने शादी में सिल्क का गोल्डन कलर का कुर्ता-पायजामा पहना था। पगड़ी पीली कलर की थी। इस पर मोती और कलगी थी। वहीं गुरप्रीत ने लाल रंग का हैवी एम्ब्रॉयडरी वाला लहंगा पहना था। शादी की सभी रस्में सीएम आवास में हुईं। इसमें बेहद करीबी लोग शामिल हुए। आनंद कारज के लिए जाते समय मुख्यमंत्री मजाकिया अंदाज में दिखे। रिबन काटते समय उन्होंने सालियों से मजाक किया। इस दौरान उन्होंने सालियों को तोहफे के रूप में सोने की अंगूठियां भेंट कीं।
खाने में पंजाबी रसोई
मान की शादी के खाने में मेहमानों को पंजाबी खाना परोसा गया। बिरयानी, पुलाव और कॉन्टिनेंटल किचन की भी व्यवस्था थी। मेहमानों का मुंह मीठा करने के लिए नेचुरल आइसक्रीम के अलावा शाही टुकड़ा, मूंग की दाल का हलवा, अंगूरी रस मलाई, जलेबी, रबड़ी और गुलाब जामुन परोसे गए।

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here